कम्पनी प्रोफाइल

भारतीय रिज़र्व बैंक नोट मुद्रण (प्रा) लिमिटेड (बीआरबीएनएमपीएल) की स्थापना भारत में बैंक नोट का उत्पादन बढ़ाने के उद्देश्य से भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा अपने संपूर्ण स्वामित्वाधीन उसकी सहायक कम्पनी (Subsidiary) के रूप में 3 फहवरी 1995 को हुई ताकि रिज़र्व बैंक देश में बैंक नोट के लिए आपूर्ति तथा मांग के बीच का फासला कम कर सके। बीआरबीएनएमपीएल का पंजीकरण कम्पनी अधिनियम 1956 के अंतर्गत प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी के रूप में हुआ तथा उसका पंजीकृत एवं कार्पोरेट कार्यालय बेंगलूरु में स्थित है। कम्पनी 2 प्रेस संभालती है। एक कर्नाटक के मैसूर में, दूसरा पश्‍चिम बंगाल के शालबनी में स्थित है। दोनों प्रेस की वर्तमान क्षमता प्रतिवर्ष 2 शिफ्ट बेसिस पर 16 बिलियन नोट पीसस हैं।

भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा मनोनीत गैर कार्यपालक अध्यक्ष के नेतृत्व में निदेशक मंडल कम्पनी के समग्र मामलों की निगरानी/देखरेख करता है। प्रबंध निदेशक कम्पनी का पूर्णकालिक मुख्य कार्यपालक है और बोर्ड का भी सदस्य है। निदेशक मंडल के सदस्य विभिन्न व्यावसायिक क्षेत्रें से चुने गए अत्यंत प्रतिष्ठित व्यक्ति हैं। प्रबंध निदेशक की सहायता कार्पोरेट कार्यालय तथा मैसूर एवं शालबनी के दो प्रेस में वरिष्ठ अधिकारियों की टीम द्वारा की जाती है।

दोनों प्रेस ने बैंक नोट मुद्रण में नवीनतम स्टेट ऑफ आर्ट प्रौद्योगिकी स्थापित किया है। मैसूर के साइट पर मशीनरी मेसर्स De La Rue Giori अब KBA Giori, Switzerland द्वारा आपूर्ति की गयी है और शालबनी के लिए मेसर्स Komori Corporation, Japan द्वारा । दोनों प्रेस सोफिस्टिकेटड सेक्युरिटी सरवीलियन्स सिस्टम से लैस हैं। कम्पनी का कार्पोरेट मिशन विश्‍व के सेन्ट्रल बैंकिंग तथा मौद्रिक प्राधिकारियों द्वारा निर्धारित अंतर-राष्ट्रीय मांनकों के अनुसरण में बैंक नोट का उत्पादन करना है और उन्हें स्पर्धात्मक कीमतों पर भारतीय रिज़र्व बैंक को यथेष्ठ मात्रा में उपलब्ध कराना है। बीआरबीएनएमपीएल इस मिशन को अपने सर्वाधिक मूल्यवान आस्ति यानि अपनी जनता से हासिल करना चाहता है। बीआरबीएनएमपीएल आइ एस ओ 9001-2008 में सम्मिलितानुसार प्रभावी गुणवत्ता प्रबंधन सिस्टम तथा पर्यावरणात्मक प्रबंधन सिस्टम को चालू कर चुका है और आइ एस ओ 9001-2015 तथा आइ एस ओ 14001-2015 कम्पनी के रूप में प्रमाणित भी किया जा चुका है।